Home > औरंगाबाद > प्रिंटिंग प्रेस मालिकों के लिए जिला निर्वाचन ने जारी किया गाइडलाइन

प्रिंटिंग प्रेस मालिकों के लिए जिला निर्वाचन ने जारी किया गाइडलाइन

मगध एक्सप्रेस [15 मार्च 19 ];- भारत निर्वाचन आयोग नई दिल्ली द्वारा 10 मार्च के अपराहन से लोकसभा आम निर्वाचन 2019 के लिए आदर्श आचार संहिता प्रभावी हो गई है ।विदित हो कि इस अवधि में विभिन्न राजनीतिक दल /अभ्यर्थी /अन्य संबंधितो के द्वारा विभिन्न प्रकार के प्रचार सामग्रियों यथा हैंडबिल, पोस्टर बैनर इत्यादि का मुद्रण एवं प्रकाशन करवाया जाता है। उपरोक्त के आलोक में लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम 1951 की धारा 127 (A), में निहित प्रावधानों के आलोक में आदर्श आचार संहिता के प्रभावी क्रियान्वयन/ अनुपालन हेतु निम्नवत आदेश संसूचित करते हुए सभी संबंधितो एवं औरंगाबाद जिला अंतर्गत प्रेस मालिकों को निर्देशित किया जाता है कि उक्त का अक्षरसः अनुपालन सुनिश्चित करेंगे अन्यथा की स्थिति में संबंधित उल्लंघन कर्ताओं को लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम 1951 में निहित प्रावधानों का उल्लंघन करने का दोषी मानते हुए उनके विरुद्ध भारतीय दंड संहिता 1860 की धारा 17(H)के तहत दंडनात्मक कार्यवाई प्रारम्भ कर दी जाएगी ।

127क पम्पलेट ,पोस्टरों आदि के मुद्रण पर प्रतिबंध

1 -कोई भी व्यक्ति किसी ऐसे निर्वाचन पंपलेट अथवा पोस्टर का मुद्रण या प्रकाशन नहीं करेगा या करवाएगा जिसके मुख्य पृष्ठ पर मुद्रा के वन इसके प्रकाशक का नाम व पता लिखा हो

2 -कोई भी व्यक्ति किसी निर्वाचन पंपलेट अथवा पोस्टर का मुद्रण नहीं करेगा या करवाएगा जब तक की प्रकाशक की पहचान की घोषणा उनके द्वारा हस्ताक्षरित तथा दो व्यक्ति जो उन्हें व्यक्तिगत रूप से जानते हो द्वारा सत्यापित ना हो तथा जिसे उनके द्वारा डुप्लीकेट में मुद्रक को न दिया जाए। दस्तावेज के मुद्रन के पश्चात उचित समय पर मुद्रक द्वारा दस्तावेज की एक प्रति के साथ घोषणा की एक प्रति राज्य की राजधानी में मुद्रण की स्थिति में मुख्य निर्वाचन अधिकारी एवं अन्य मामले में जिले के मजिस्ट्रेट को न भेजी गई हो ।
हाथ से लिखी गई प्रतियों को अनेकानेक प्रतियां बनाने की प्रक्रिया मानते हुए उक्त प्रक्रिया को मुद्रण समझा जाएगा एवं वाक्यांश मुद्रक को तदनुसार समझा जाएगा। निर्वाचन पंपलेट अथवा पोस्टर से किसी अभ्यर्थी या अभ्यर्थियों के समूह के निर्वाचन को समप्रवर्तित या प्रतिकूलता प्रभावित करने के प्रयोजन के लिए वितरित कोई पुस्तिका पर्चा या अन्य दस्तावेज निर्वाचन सभा की तारीख, समय स्थान और अन्य विशिष्टयो को केवल आख्यापित करने वाला या निर्वाचन अभिकर्ताओं को चर्चा संबंधी निर्देश देने वाला कोई पर्चा या अन्य दस्तावेज इसके अंतर्गत नहीं आता है।

कोई भी व्यक्ति जो उपधारा 1 अथवा उपधारा 2 के किसी भी उपबंध का उलंघन करता है वह 6 महीने तक कारावास अथवा जुर्माना जिसे दो हाजर रुपये तक बढ़ाया जा सकता है अथवा दोनों दंडनीय होगा ।
सभी प्रिंटिंग प्रेस धारा 127 क (2)के तहत मुद्रण सामग्री मुद्रित होने के तीन दिनों के अंदर मुद्रित प्रतियां ( प्रत्येक मुद्रित सामग्री की तीन अरीरिक्त प्रतियां सहित)प्रकाशक के घोषणा प्राप्त कर भेजेंगे।

483 total views, 6 views today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *