Home > औरंगाबाद > मिले खातिर दिल बेकरार काहे होला , प्यार में लोगबा बेकार काहे होला-,सत्येंद्र कुमार के गीतों पर झूमे लोग

मिले खातिर दिल बेकरार काहे होला , प्यार में लोगबा बेकार काहे होला-,सत्येंद्र कुमार के गीतों पर झूमे लोग

सतीश कुमार सिंह

मगध एक्सप्रेस (12 फरवरी 19):-औरंगाबाद जिले के सौर तीर्थ स्थल देव में भगवान सूर्य के जन्मदिवस अचला सप्तमी के अवसर पर प्रथम दिन कलाकारों की कलाकारी और गायकों की आवाज से पूरा सूर्य महोत्सव गुंजायमान हो रहा है ।

 

भजन गायक सुनील मिश्रा के कार्यक्रम की समाप्ति के बाद भोजपुरी गायक सत्येंद्र कुमार संगीत का जलवा संवाद प्रेषण तक महोत्सव मंच से शुरू है ।गायक सत्येंद्र कुमार ने ईटीवी बिहार में भी अपनी गायिका का जलवा बिखेरा है , सीता की जन्मभूमि ये बिहार जैसे गीतों के माध्यम से चर्चित रहे है और लगभग 40 देशों में अपनी गायिकी का जलवा बिखेरा है ।

सत्येंद्र कुमार ने सबसे पहले मंच से नारियल चुनरिया लेके गंगा जी के पानी , कब से खाड़ बानी हो , दर्शन दे दिही कल्याणी कब से खाड बानी हो, मिले खातिर दिल बेकरार काहे होला , प्यार में लोगबा बेकार काहे होला , लाल लाल होठवा से बरसे रस चुएला ,जैसे अमवा और ओखरा के रस चुएला ,  ये है मेरा बिहार ,जैसे गीतों के माध्यम से दर्शकों को झुमा रहे है । वहीं दर्शको की भारी भीड़ मौजूद है ।

2,361 total views, 3 views today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *