Home > औरंगाबाद > सीआरपीएफ के हाथों कंप्यूटर प्रशिक्षण प्रमाण पत्र पाकर उत्साहित हुए नसक्ल प्रभावित क्षेत्र के बच्चे,कमाण्डेन्ट ने उनके उज्ज्वल भविष्य के लिए हर कदम पर साथ देने का किया वादा

सीआरपीएफ के हाथों कंप्यूटर प्रशिक्षण प्रमाण पत्र पाकर उत्साहित हुए नसक्ल प्रभावित क्षेत्र के बच्चे,कमाण्डेन्ट ने उनके उज्ज्वल भविष्य के लिए हर कदम पर साथ देने का किया वादा

संजीव कुमार-

मगध एक्सप्रेस [11 जनवरी 19 ];-किसी ने सच कहा है कि,”मंजिले नहीं रास्ते बदलते हैं,जगा लो जज्बा जितने का तो किस्मत की लकीरें बदले न बदले वक्त जरूर बदलता है”।अगर किसी के अंदर जज्बा किसी किसी लक्ष्य को पाने की हो तो इसके सामने हर डगर बौना पड़ जाता है।अब नक्सलप्रभावित क्षेत्र के बच्चे भी अपने भविष्य को उज्ज्वल बनाने के लिए अपने सफर पर निकल चुके हैं।उस सफर में उनका हमसफर बनकर हर कदम पर साथ देने के लिए सीआरपीएफ पूरी तरह से समर्पित हो चुके हैं।नागरिक सहायता कार्यक्रम के जरिये युवाओं को एक नई दिशा देने में जुटे सीआरपीएफ की पूरी टीम साहसिक और सराहनीय कार्य करने में अग्रसर है।

शुक्रवार को सीआरपीएफ बटालियन-G/153 ने मदनपुर में कैम्प लगाकर नक्सलप्रभावित क्षेत्र के बच्चों के बीच मे कंप्यूटर प्रशिक्षण प्रमाण पत्र का वितरण किया।सीआरपीएफ के हाथों प्रमाण पत्र पाकर युवाओं का उत्साह दुगुना हो गया।इस दौरान कार्यक्रम में शिरकत करने आये मुख्य अतिथि 153 बटालियन के कमाण्डेन्ट सौरभ कुमार चौधरी ने युवाओं का हौसला बुलंद करते हुए कहा कि,युवा ही देश के कर्णधार हैं।नक्सल प्रभावित क्षेत्र के युवक युवतियां भी अपने अतीत को भूलकर अपना भविष्य उज्ज्वल करना चाहते हैं लेकिन उनके रास्ते मे रोड़े बहुत हैं।उसमें नक्सल सबसे बड़ा रोड़ा है।नक्सलवाद का खात्मा बेहतर मार्गदर्शन और विकास से ही होगा जिसके लिए सीआरपीएफ लगातार प्रयासरत है।जब तक इनके अंदर बेहतर करने का जुनून नही जाग जाता तब तक नक्सलवाद का खात्मा नही होगा।हर क्षेत्र के बच्चे विकास का व्यंजन चखने के लिए लालायित हैं।

अतिनक्सल प्रभावित क्षेत्र के बच्चों में भी प्रतिभा और हौसला है लेकिन नक्सलियों ने इनके प्रतिभा को कैद कर रखा है जो समाज के साथ नाइंसाफी है।वे नही चाहते हैं कि,उस क्षेत्र के युवा पढ़ लिखकर आगे बढ़े ताकि उनपर वो शोषण करते रहें।लेकिन सीआरपीएफ ने ये ठान ली है कि, वैसे युवाओं को भटकने नही देंगे और उनके बेहतर भविष्य के लिए कुछ भी करने को तैयार हैं।पिछले वर्ष में नागरिक सहायत के जरिये सुदूरवर्ती अतिपिछड़े इलाकों में सिलाई प्रशिक्षण कार्यक्रम,सोलर लाइट लगाने,आरओ वाटर प्लांट लगाने,कंप्यूटर प्रशिक्षण के उपरांत कंप्यूटर वितरण,मार्केट शेड का निर्माण तथा ऑटोमोबाइल कोर्स करवाने करने का काम किया था और उनके बीच मे प्रमाण पत्र का वितरण किया गया था।इस वर्ष भी सीआरपीएफ अनेक कार्यक्रम का आयोजन कर रही है और करेगी ताकि,युवाओं को भरपूर लाभ मिल सके और रोजगार मिल सके।कंप्यूटर प्रशिक्षण के साथ साथ वेल्डिंग,कारपेंटर का कोर्स,सोलकर लैंप का वितरण का कार्यक्रम चलाया जाएगा।

इस दौरान युवक युवतियों को निःशुल्क कंप्यूटर प्रशिक्षण के लिए नालंदा इंटरनेशनल पब्लिक स्कूल के डायरेक्टर निशांत सिंह को जिम्मेवारी देते हुए एक कंप्यूटर का वितरण किया ताकि,उसका रख रखाव बेहतर ढंग से हो सके और लोग बेहतर प्रशिक्षण प्राप्त कर सकें।इस दौरान 32 लोगों को प्रमाण पत्र दिया गया।कार्यक्रम का संचालन सहायक कमाण्डेन्ट बी श्रवण कुमार ने किया।इस दौरान द्वितीय कमान अधिकारी ऋषि राज सहाय,G/153 बटालियन के कमाण्डेन्ट बी श्रवण कुमार के साथ सीआरपीएफ के जवान,बच्चे व स्थानीय लोग मौजूद थे।

1,026 total views, 12 views today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *