Home > कैरियर > अभिभावकों की भूमिका गुणवत्तापूर्ण शिक्षा एवं तनावरहित तैयारी में बेहद जरुरी : हरिओम कॉमर्स

अभिभावकों की भूमिका गुणवत्तापूर्ण शिक्षा एवं तनावरहित तैयारी में बेहद जरुरी : हरिओम कॉमर्स

बिहार बोर्ड द्वारा आयोजित 12 वीं बोर्ड की परीक्षा की तिथी फरवरी में निर्धारित है। ऐसे में बच्चों को अपनी तैयारी के प्रति सजग होना बेहद जरूरी है। परीक्षा के समय नजदीक आने के साथ ही विद्यार्थियों के साथ साथ उनके पेरेंट्स की भी चुनौतियों बढ जाती है कि वे अपने बच्चों को एक्जाम की बेहतर तैयारी हेतु एक आदर्श महौल प्रदान करने के साथ समय समय पर उन्हें परीक्षा की बेहतर तैयारी हेतु  प्रोत्साहित करें।
बोर्ड परीक्षा के मध्यनजर गुणवत्तापूर्ण शिक्षा एवं तनावरहित तैयारी पर ध्यान केंद्रित करने के लिए जिले के सर्वाधिक लोकप्रिय कोचिंग संस्थान हरिओम कामर्स द्वारा अभिभावक शिक्षक संगोष्ठी का आयोजन छात्रों की कमजोरियों पर ध्यान केंद्रित करने, शैक्षणिक एवं व्यवहारिक सहायता प्रदान करने एवं उनकी तैयारी में माता-पिता की अधिक भागीदारी को प्रोत्साहित कर उन्हें एक तनावरहित आदर्श महौल प्रदान करने के लिए किया गया। जिसका मुख्य उद्देश्य अभिभावकों को उन रणनीतियों से अवगत कराना था, जो उन्हें अपने बच्चे की नैतिक और शैक्षणिक जरूरतों को पूरा करने के लिए अनुकूल बनाना चाहिए ताकि उनके बच्चों को उनके मार्गदर्शन से परीक्षा में अच्छा स्कोर करने में मदद मिल सके।
करीब 3 घंटे तक अभिभावकों के साथ हुई बातचीत में 1-1 आधार पर बच्चों के सीखने, प्रगति, विकास, परीक्षा की तैयारी, प्रैक्टिस सेट, परीक्षा की समीक्षा जैसे कई अन्य महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा की गई तथा छात्रों की समस्याओं को अध्यापक एवं अभिभावकों के बीच एक-दूसरे से चर्चा कर दूर करने की पहल की गई।
 हरिओम कामर्स के निदेशक अनिल कुमार सिंह ने कहा कि जब माता-पिता और शिक्षक अपने बच्चों के समग्र विकास के लिए एक साथ काम करते हैं तथा उन्हें बेहतर करने के अपने प्रयासों में प्रतिबद्ध रहते हैं तो छात्रों में एक नयी उर्जा का संचार होता है तथा उन्हें एक नयी दिशा मिलती है। मां-बाप ही बच्चे के प्राथमिक शिक्षक होते हैं ऐसे में यह जरूरी है कि हम माता-पिता और शिक्षक के बीच संचार को बढ़ाने और मौजूदा अंतर को पाटने हेतु दृढ संकल्पित होकर कार्य करें।
 मेंटर निशा कुमारी और रानी कुमारी सिंह ने विषयक छात्र समीक्षा रिपोर्ट को अभिभावकों के बीच साझा करते हुए कहा कि वर्तमान समय में केवल शिक्षक पर निर्भर न रहकर सभी पेरेंट्स को चाहिए कि बच्चों की प्रतिदिन की गतिविधियों की समीक्षा की जाए एवं उन्हें एक रणनीति बनाकर परीक्षा की तैयारी में योगदान देने की कोशिश हो।
संगोष्ठी में अभिभावकों ने एकमत होकर इस पहल की प्रशंसा की तथा बोर्ड परीक्षा में छात्रों के बेहतर प्रदर्शन हेतु अपने-अपने सुझाव रखे।शत प्रतिशत माता-पिता की संतुष्टि देखी गई और माता-पिता द्वारा दी गई प्रतिक्रिया बहुत सकारात्मक रही।
इस मौके पर नीरज कुमार राय, कमलेश सिंह, पप्पू सिंह,प्रभा सिंह, नीलम देवी,रेणु देवी, रेखा पाठक,अजीज खातुन,रंजु देवी, अनिता सिंह कुशलेष समदर्शी उपस्थित रहे।

237 total views, 2 views today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *